कॉकरोच की दौड़ समेत ये हैं दुनिया की कुछ अजीबोगरीब खेल प्रतियोगिताएं

कॉकरोच की दौड़ समेत ये हैं दुनिया की कुछ अजीबोगरीब खेल प्रतियोगिताएं
Spread the love

दुनियाभर में वैसे तो कई तरह के खेल होते हैं लेकिन कुछ खेल ऐसे होते हैं जिन्हें शायद ही कोई खेलना पसंद करे। जबकि इन खेलों के लिए किसी खास तरह की ट्रेनिंग की जरुरत नहीं होती है और कोई भी इन्हें खेल सकता है, लेकिन बावजूद इसके ये खेल इतने अजीब होते हैं कि इन्हें खेलने से पहले कोई भी एक बार को जरूर सोचेगा।  तो आइए हम आपको बताते हैं दुनिया के इन कुछ अजीबोगरीब खेलों और उसमें मिलने वाले पुरस्कार के बारे में।

विश्व मूछ और दाढ़ी चैंपियनशिप:
एक ऐसा खेल जिसके लिए आपको अपने काम नहीं रोकने हैं और नाहीं कोई खास ट्रेनिंग की आवश्यकता है। बस आपको मौके पर बैठे रहना है। इस चैंपियनशिप में दुनिया के 15 देश हिस्सा लेते हैं। इस खेल में कई तरह की श्रेणियां होती हैं। विजेता की घोषणा इन्हीं श्रेणियों में मूछों-दाढ़ियों की लंबाई, चौड़ाई, डिजाइन के आधार पर की जाती है। इस खेल का आयोजन 1990 से किया जा रहा है। इसमें जीतने वाले को एक पन्ना, मूछ-दाढ़ी का सस्ता बीमा और मूछ-दाढ़ी कटवाने को लेकर पत्नी की तरफ से मिलने वाली डांट पुरस्कार स्वरूप शामिल होती है।

एयर गिटार चैंपियनशिप:
गिटार हाथ में हो तो उसकी तारों पर अंगुली मारकर किसी भी तरह की आवाज निकल ही जाती है और उसे बजाते-बजाते धीरे-धीरे अंदर से जोश भी आने लगता है। लेकिन हाथ में गिटार ना हो और बावजूद इसके पुरे जोश के साथ हजारों लोगों के सामने गिटार बजाना हो तो? जी हां, सही सुना एक ऐसी प्रतियोगिता जिसमें दुनियाभर के कई देशों से प्रतियोगी शामिल होते हैं। इस चैंपियनशिप में करना यह होता है कि दर्शकों और जजों के सामने आभासी गिटार यानी बिना किसी गिटार के सिर्फ महसूस करते हुए किसी धून पर परफॉर्म करना होता है। इस दौरान सब कुछ आपके अभिनय और ऊर्जा पर निर्भर करता है कि विजेता होंगे या नहीं। 1990 में फिनलैंड में शुरू हुई यह प्रतियोगिता अब काफी चर्चित हो गई है और हर बार इसमें विजेता घोषित होते हैं, तो कुल मिलाकर आपको एक रॉकस्टार की तरह हजारों लोगों के सामने बगैर गिटार के परफॉर्म करना है और दर्शकों का मनोरंजन भी करना है।

बेबी क्राइंग चैंपियनशिप (बच्चे का रोना प्रतियोगिता):
बच्चे का रोना शायद ही किसी को पसंद हो और हर कोई उन्हें हंसता हुआ देखना चाहता है। लेकिन अगर रोने पर कोई विजेता बनने लगे और उसे पुरस्कृत किया जाने लगे तो? जापान में एक ऐसी ही चैंपियनशिप का आयोजन होता है जिसमें एक पिता सूमो पहलवान की तरह कपड़े पहनने से लेकर अजीबोगरीब चेहरे और हाव भाव से अपने बच्चे को रुलाने की कोशिश करता है। इस दौरान बच्चे के रोने और पिता द्वारा अपनाए जाने वाले तरीके के आधार पर विजेता का चुनाव किया जाता है।

गर्निंग चैंपियनशिप:
इंग्लैंड में हर साल होने वाले क्रैब फेयर (मेले) में इस प्रतियोगिता का आयोजन होता है। इस अजीबोगरीब चैंपियनशिप को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग इकठ्ठा होते हैं। इसमें होता यह है कि प्रतोयोगियों को भद्दे चेहरे बनाने होते हैं, यानी जो जितना भद्दा चेहरा बनाएगा, जीत उसी की तय होगी। इस मुकाबले में लोग अजीबोगरीब चेहरे बनाते हैं और जीत के लिए अपनी दावेदारी पेश करते हैं।

कॉकरोच रेसिंग (तिलचट्टे की दौड़):
घोड़े से लेकर बैलों और कई तरह के अन्य जानवरों की रेस तो देखी-सुनी होगी लेकिन किसी कीड़े की दौड़ आपने शायद ही कभी सुनी होगी। ये एक ऐसी ही दौड़ है जो ऑस्ट्रेलिया के स्टोरी ब्रिज होटल में आयोजित की जाती है और इसमें दौड़ लगाते हैं तिलचट्टे (कॉकरोच)। जी हां, एकदम सही सुना, ऑस्ट्रेलिया के राष्ट्रीय दिवस के दिन प्रतियोगी अपने साथ एक से बढ़कर एक तिलचट्टे को लेकर जाते हैं। इसके बाद सभी तिलचट्टों को बीच में एक गोले के अंदर छोड़ दिया जाता है। इसके बाद रेस की शुरुआत होती है और जो तिलचट्टा सबसे पहले बड़े गोले के किनारे पर पहुंच जाता है, वो विजेता घोषित हो जाता है और उसके मालिक को नकदी इनाम दिया जाता है।

वोर्म चार्मिंग चैंपियनशिप (कीड़ा निकालने की प्रतियोगिता):
इंग्लैंड ने दुनिया को क्रिकेट जैसा रोमांचक और चर्चित खेल दिया तो उसके अलावा कई अजीबोगरीब खेल भी इजाद किए। अब इस खेल को ही ले लीजिए। इंग्लैंड में वीकेंड पर एक मैदान (खेत) में इसका आयोजन होता है। इसमें लोगों को जमीन के अंदर से कीड़े निकालने होते हैं, और जो सबसे अधिक कीड़ों को निकालता है, वो विजेता घोषित होता है। मजेदार यह है कि इसमें भाग लेने वाले प्रतियोगी कीड़े निकालने के लिए अलग-अलग तरीके अपनाते हैं, जैसे कोई कूदता है, कोई संगीत बजाता है, कोई गाना जाता है तो कोई कीड़े की तरह कपड़े पहनकर ढोल बजाता है।

मधुमक्खी पहनने की प्रतियोगिता:
कपड़े पहनना तो समझ आता है, लेकिन मधुमक्खियों को अपने शरीर पर पहनना? एक साधारण व्यक्ति इसे पागलपन ही कहेगा। लेकिन यह एक सच्चाई है और इतना ही नहीं, चीन में यह एक खेल है, जिसमें हार-जीत का फैसला होता है। चीन के हुनान प्रांत में इस प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है, जिसमें अपने शरीर पर सबसे अधिक मधुमक्खियों को पहनने वाला विजेता घोषित होता है। इस प्रतियोगिता में वजन के हिसाब से विजेता की जीत-हार का फैसला होता है।

पैर की अंगुली की कुश्ती:
कुश्ती तो कई तरह की होती है, जिसमें हाथों से लेकर कंधों और पैरों तक का इस्तेमाल होता है। लेकिन पैर की अंगुली से अगर कुश्ती करनी हो तो? साधारण व्यक्ति ऐसा करने से पहले कई बार सोचेगा और शायद ऐसा करने की कोशिश न करे। कम से कम होश में तो ऐसा करने के लिए बहुत आत्मबल चाहिए होगा। लेकिन आश्चर्य यह है कि ऐसा होता है और सिर्फ खेल ही नहीं बल्कि इसे लेकर पूरी प्रतियोगिता होती है और जीत-हार तय की जाती है। 70 के दशक में एक शराब के अड्डे पर चार दोस्तों ने इसे शुरू किया था और देखते-देखते यह एक खेल बन गया। इसमें दो लोग अपने पैर की अंगुलियों से कुश्ती करते हैं, इस दौरान किसी भी तरह की सुरक्षा नहीं होती है।

 

 

Right Click Disabled!