खरीदी केन्द्रो पर सभी प्रकार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें-कलेक्टर

खरीदी केन्द्रो पर सभी प्रकार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें-कलेक्टर
Spread the love

श्योपुर 

बैठक में समितियों को सजग होकर कार्य करने के निर्देश

कलेक्टर श्रीमती प्रतिभा पाल ने कहा है कि गेहूँ उपार्जन कार्य के अंतर्गत 38 खरीद केन्द्र बनाये गये है। इन खरीद केन्द्रो पर सभी प्रकार की व्यवस्थाएं समय रहते सुनिश्चित की जावे। जिससे 25 मार्च से 22 मई 2020 तक खरीदी का कार्य व्यवस्थित तरीके से करनें में आसानी होगी। इस दिशा में सहकारी समितियां सजग होकर कार्य करें। साथ ही खरीदी की सभी तैयारी 20 मार्च तक पूरी कर ली जावे। वे आज कलेक्टर कार्यालय श्योपुर के सभागार में गेहूँ उपार्जन के अंतर्गत आयोजित विभागीय अधिकारियों एवं समिति प्रबंधको की बैठक को संबोधित कर रही थी।

बैठक में अपर कलेक्टर श्री सुनीलराज नायर, जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम श्री डीएस कटारे, सहायक आयुक्त सहकारिता श्री आरएस द्विवेदी, उपसंचालक कृषि श्री पी गुजरे, डीआईओ श्री कपिल पाटीदार, एफओ श्री एनएस चौहान एवं अन्य विभागीय अधिकारी तथा समिति प्रबंधक उपस्थित थे। कलेक्टर श्रीमती प्रतिभा पाल ने कहा कि किसानो द्वारा गेहूँ उपार्जन कार्य के अंतर्गत करीबन ढाई लाख हैक्टयर में गेहूँ की फसले बोई है। उपार्जन कार्य 25 मार्च से 22 मई 2020 तक चलेगा। इसलिए खरीदी कार्य के पूर्व की सभी तैयारियां 20 मार्च तक सुनिश्चित की जावे। उन्होने कहा कि उपार्जन कार्य कें अंतर्गत ट्रेनिग दी जा चुकी है। इसी प्रकार साईलो से 19 केन्द्रो को जोडा गया है। उपार्जन केन्द्रो पर भौतिक व अन्य सुविधाएं विकसित कराई जावे।

कलेक्टर ने कहा कि खरीद केन्द्रो पर जन सुविधाओ के अंतर्गत छाया के लिए टेंट की व्यवस्था की जावें। साथ ही पानी और शौचालय की व्यवस्था को कारगर बनाया जावे। उन्होने कहा कि खरीद केन्द्र पर समिति के माध्यम से छलना की व्यवस्था की जावे। जिससे एफएक्यू गेहूँ खरीदने में आसानी होगी। खरीद केन्द्र पर पार्किग व्यवस्था को प्रभावी बनाया जावे। साथ ही नॉन एफएक्यू गेहूँ नही खरीदा जावे। इस दिशा में संबधित किसान को एफएक्यू गेहूँ लाने के लिए अवगत कराया जावे। साथ ही दो दिन बाद उसकी खरीदी क्वालिटी के मान से की जावे। इस दिशा में सभी समितियां ध्यान देकर कार्य करें।
खरीदी कार्य के अंतर्गत एआरसीएस की टीम समिति पर पहुंच कर ओके रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होने कहा कि परखी का प्रयोग बोरा पर करने के लिए गंभीरता से कार्यवाही की जावे। साथ ही टैग लगाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जावें। उन्होने कहा कि किसानो से खरीदे गये गेहूँ का भुगतान आवश्यक औपचारिकताओं के बाद 7 दिन में करने की व्यवस्था होनी चाहिए। कलेक्टर ने कहा कि उपसंचालक कृषि, कृषि विज्ञान केन्द्र और अपने अमले को खरीदी कार्य के लिए तैनात करें। जिससे विगत वर्ष की भांति नॉन एफएक्यू पर निगरानी रख सकें। मैपिंग का कार्य शीघ्र पूरा कराया जावे। साथ ही रूट चार्ट के अनुसार चौकलिस्ट तैयार की जावे। जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम श्री डीएस कटारे ने प्रजेन्टेशन के माध्यम से बैठक में गेहूँ उपार्जन कार्य के अंतर्गत खरीदी केन्द्रो की व्यवस्थाओ की जानकारी दी।

Right Click Disabled!