जिला जेल पर स्वास्थ्य जाँच शिविर हुआ आयोजित

जिला जेल पर स्वास्थ्य जाँच शिविर हुआ आयोजित
Spread the love

हरदा

बंदियों को मास्क तथा सेनिटायजर उपलब्ध कराये गये

कलेक्टर श्री अनुराग वर्मा के निर्देशन में जिला चिकित्सालय द्वारा जेल पर कोरोना वायरस के संक्रमण के संबंध में बंदियों का जाँच शिविर आयोजित किया गया। शिविर में सिविल सर्जन डॉ. शिरीष रघुवंशी, डॉ. ओ.पी. खोरे, चिकित्सा अधिकारी एवं टेक्निकल स्टाफ द्वारा 190 पुरूष एवं 5 महिला, कुल 195 बंदियों तथा जेल स्टाफ की शतप्रतिशत स्क्रीनिंग की गई। जाँच में नाक, गला, पल्स, बी.पी., शुगर एवं बुखार आदि का परिक्षण किया गया। परिक्षण में कोई भी बंदी बुखार में होना नहीं पाया गया। केवल 12 बंदियों को सामान्य सर्दी, खाँसी पाई गई, जिसका उपचार दिया गया।

परिक्षण उपरान्त सिविल सर्जन डॉ. शिरीश रघुवंशी द्वारा बंदियों एवं जेल स्टाफ को कौरोना वायरस संक्रमण के लक्षण एवं उपचार हेतु रोकथाम के उपाय विस्तार से बताए गए। उन्होने बताया कि मुख्यतः खाँसने पर हाथ का इस्तेमाल न करते हुए कोहनी का इस्तेमाल करना, साबुन से चार से पाँच बार हाथ धोना, जहाँ पर बैठते है थोड़ी दूरी बनाकर बैठे, आलिंगन अथवा हाथ मिलाने की परम्परा बंद करें, किसी से भी अभिवादन करना हो तो हाथ न मिलाते हुए हाथ जोड़कर नमस्ते अथवा जय हिन्द करें। जय हिन्द बोलने से अपने देश का भी नाम रोशन होता है या नमस्कार बोलने से प्रभु का नाम भी आता है।

उन्होने बताया कि कौरोना वायरस हाथ में आठ से दस मिनट रहता है जो साबुन से हाथ धोने से खत्म हो जाता है किन्तु नाक या मुँह में जाने से ठंडक मिलती है वह जीवित हो जाता है। इसमें खाँसी आने पर सूखी खाँसी आती है, गले में दर्द आएगा तथा तेज बुखार होगा। ऐसे लक्षण आने पर तुरन्त चिकित्सक को बताएं। यह हमारी संस्कृती भी है कि हम शौच के बाद व भोजन के पहले और बाद में हाथ धोते है। अगर हम बराबर हाथ धोएंगे और बराबर हाथ जोड़कर नमस्ते कहेंगे तो मुझे पूरा विश्वास है कि कौरोना बीमारी को भी हम नमस्ते करेंगे।

परीक्षण में किसी को भी उक्त लक्षण अथवा 102 तक बुखार नहीं था। सिविल सर्जन द्वारा जेल स्टाफ एवं बंदियों को मास्क उपलब्ध कराए गए एवं सेनिटायजर दिया गया। जेल पर भी बंदियो द्वारा सूती कपड़े से मास्क सिलकर तैयार कर वितरण किए गए। कार्यक्रम में श्रीमती नमिता फार्मासिस्ट एवं जेल स्टाफ भी उपस्थित रहा। जेल उप अधीक्षक, श्री महावीर सिंह रावत द्वारा चिकित्सक विशेषज्ञों एवं टीम का आभार व्यक्त किया गया।

Right Click Disabled!