नेपोटिज्म पर बहस के बीच ‘चंद्रमुखी चौटाला’ ने खोली टीवी इंडस्ट्री की पोल

नेपोटिज्म पर बहस के बीच ‘चंद्रमुखी चौटाला’ ने खोली टीवी इंडस्ट्री की पोल
Spread the love

सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से नेपोटिज्म को लेकर कई सितारों को निशाना बनाया जा रहा है। नेपोटिज्म और गुटबाजी को लेकर बहस छिड़ी तो ना केवल बॉलीवुड बल्कि टीवी इंडस्ट्री के कलाकार भी आगे आ रहे हैं और आप बीती बता रहे हैं। अब टीवी कलाकार कविता कौशिक ने इंडस्ट्री की कड़वी सच्चाई को उजागर किया है।

सीरियल ‘एफआईआर’ में इंस्पेक्टर चंद्रमुखी चौटाला की भूमिका से मशहूर हुईं कविता कौशिक ने बताया कि नेपोटिज्म के अलावा कई तरह से प्रताड़ना होती है। कविता कहती हैं कि नेपोटिज्म को लेकर स्टार किड्स पर हमला करना बेकार है बल्कि समस्या तो कहीं और है। सभी को इस सिस्टम के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए।

कविता ने एक के बाद एक कई ट्वीट्स किए और बताया कि कैसे ‘एफआईआर’ के बंद होने के बाद भी मेकर्स की ओर से उन्हें धमकियां मिल रही हैं। मेकर्स उन्हें चंद्रमुखी चौटाला जैसा किरदार नहीं करने की धमकी दे रहे हैं। कविता एक ट्वीट में लिखती हैं कि ‘कल ही मुझे याद दिलाया गया कि अगर मैंने कहीं भी हरियाणवी पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका अदा की तो मुझ पर केस कर दिया जाएगा। जबकि उस शो को बंद हुए पांच साल हो चुके हैं। दर्शकों की भारी मांग के बावजूद इसे दोबारा शुरू नहीं किया जा रहा। और आप मूवी माफिया की बात करते हैं। क्यूट।’

कविता आगे कहती हैं कि ‘जब मैंने बताया कि मैं हरियाणवी पुलिस अधिकारी या पंजाबी पुलिस अधिकारी के कॉन्सेप्ट पर एक फिल्म करने की प्लानिंग कर रही हूं तो मुझे साफ तौर पर यह (केस करने वाली बात) याद दिलाया गया। जब मैंने उन्हें याद दिलाया कि कैसे उनके मराठी पुलिस अधिकारी की जगह हरियाणवी पुलिस अधिकारी चंद्रमुखी का आइडिया मैंने दिया था तो वो कहते हैं कि ‘तुम्हें उसका पैसा दिया गया था।’

कविता कहती हैं कि ‘केवल नेपोटिज्म ही समस्या नहीं है। बल्कि चैनल और प्रोड्यूसर मिलकर रॉयल्टी, एक्टर्स और टेक्नीशियंस द्वारा मिलकर बनाए गए प्रोडक्ट के राइट्स, बदनाम करने की ताकत और कॉन्ट्रैक्ट के जाल को भी एन्जॉय करते हैं। असली समस्या से लड़िए। स्टार किड्स पर हमला करना बेकार है।’

 

Right Click Disabled!