पाक के गैरजिम्मेदार बयानों की निंदा करते हुए भारत ने दी नसीहत

पाक के गैरजिम्मेदार बयानों की निंदा करते हुए भारत ने दी नसीहत
Spread the love

नई दिल्ली
विदेश मंत्रालय ने कश्मीर पर पाकिस्तान की तरफ से आ रहे भड़काऊ और गैरजिम्मेदार बयानों की निंदा करते हुए उसे भारत के अंदरूनी मामलों पर टिप्पणी न करने की नसीहत दी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को भारत के आंतरिक मामलों पर पाकिस्तानी नेतृत्व के हालिया बयानों की कड़ी निंदा की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है कि ये बहुत गैरजिम्मेदाराना बयान हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तान का मकसद माहौल खराब करना है। वह मनगढ़ंत और तथ्यों से परे बातों के जरिए ऐसा माहौल बनाने की कोशिश कर रहा है कि दुनिया को लगे कि हालत बहुत नाजुक है। उन्होंने पाकिस्तान पर भारत में हिंसा भड़काने की कोशिश और जिहाद का आह्वान करने का भी आरोप लगाया।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, पाकिस्तानी नेतृत्व की तरफ से भारत के आंतरिक मामले को लेकर गैरजिम्मेदाराना बयान आ रहे हैं, जिसकी हम भर्त्सना करते हैं। भारत में हिंसा भड़काने की कोशिश और जिहाद का आह्वान किया जा रहा है। तथ्यों से परे बातों से ऐसा माहौल बनाया जा रहा है। पाकिस्तान को समझना होगा कि दुनिया ने उसकी इस चाल को समझ लिया है और इन मनगढ़ंत बातों को कोई नहीं सुनने वाला है। वह ऐसा माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच हालत बहुत नाजुक है।
आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान की आलोचना करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सभी जानते हैं कि पड़ोसी देश आतंकवाद का स्टेट पॉलिसी के तौर पर इस्तेमाल करता आया है। उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान आतंकवाद को एक स्टेट पॉलिसी के तौर पर यूज करता है। हम उसे अपनी चिंताओं से अवगत कराते रहे हैं। पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश करा रहा है। हम चाहते हैं कि पाकिस्तान वहां जो भी आतंकी संगठन हैं उन पर प्रभावी कार्रवाई करे। ऐसी कार्रवाई करे कि वे दोबारा क्रॉसबॉर्डर टेररिजम न फैला सकें।
पाकिस्तान द्वारा भारत आने-जाने वाले विमानों के लिए अपना एयरस्पेस बंद करने संबंधी रिपोर्ट पर कुमार ने कहा कि इस्लामाबाद द्वारा एयरस्पेस बंद करने को लेकर कोई आधिकारिक सूचना या बयान जारी नहीं किया गया है। कुलभूषण जाधव केस पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हम राजनयिक चैनल के जरिए संपर्क में हैं। हमें इंतजार है कि पाकिस्तान इस पर क्या कदम उठाता है। हमने बिना शर्त कंसुलर ऐक्सेस की मांग की है।

Right Click Disabled!