पुरानी व्यवस्था बहाल, अब नहीं जाना होगा क्वारंटीन सेंटर

पुरानी व्यवस्था बहाल, अब नहीं जाना होगा क्वारंटीन सेंटर
Spread the love

होम आइसोलेशन पर दिल्ली की चुनी हुई सरकार और उपराज्यपाल के बीच चल रही तनातनी के बीच बृहस्पतिवार को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने क्वारंटीन की पुरानी व्यवस्था बहाल करने का फैसला लिया है। अब कोरोना पॉजिटिव नए मरीज को कोविड केयर सेंटर नहीं जाना होगा। इसकी जगह जिले से एक टीम मरीज के घर का दौरा करेगी। यदि रोगी में संक्रमण के लक्षण नहीं हैं और घर में पर्याप्त जगह है तो उसे होम आइसोलेशन की इजाजत दे दी जाएगी।

इससे पहले बृहस्पतिवार दोपहर बाद उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में डीडीएमए की बैठक हुई। इसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। इसमें होम आइसोलेशन की प्रभावी निगरानी प्रणाली से संक्रमण का प्रसार रोकने व रोगी को मेडिकल सुविधा दिलाने पर चर्चा हुई। बताया कि इसके लिए उन्हीं लोगों को होम आइसोलेशन की इजाजत देने की जरूरत है, जिनके पास रहने के लिए परिवार से अलग पर्याप्त सुविधा हो। वहीं, निगरानी टीम का फिजिकल वेरिफिकेशन होना चाहिए। इसके अलावा संक्रमितों के इलाज के लिए मेडिकल पेशेवरों की प्रशिक्षित मेडिकल टीम की आवश्यकता होती है।

दूसरी तरफ जिले की होम आइसोलेशन टीम मरीज के घर आकलन करेगी। इसके बाद ही उसे घर में रहने दिया जाएगा। इस दौरान देखा जाएगा कि मरीज का घर में दो अलग-अलग कमरे व शौचालय हैं या नहीं? रोगी को कैट एंबुलेंस का नंबर दिया जाएगा। जरूरत पड़ने पर वह इसे बुला सकेगा। उपराज्यपाल ने जोर दिया कि संबंधित विभाग को यह सुनिश्चित करना है कि निगरानी प्रणाली मजबूत हो।

गंभीर लक्षण वाले मरीज ही होंगे अस्पताल में भर्ती
बैठक में तय किया गया कि मध्यम अथवा गंभीर लक्षण मरीज को ही कोविड केयर सेंटर, कोविड हेल्थ केयर या अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। यदि निगरानी टीम रोगी के घर में आइसोलेशन के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं पाती है तो उसे भी कोविड केयर सेंटर भेज दिया जाएगा।

दो तरीके से हो रही जांच
दिल्ली में कोविड-19 की जांच रैपिड एंटीजन टेस्ट और आरटी-पीसीआर से हो रही है। बैठक में फैसला लिया गया कि कोविड-19 एंटीजन के लिए रेपिड टेस्ट द्वारा पॉजिटिव पाए गए सभी व्यक्तियों की बीमारी की गंभीरता का आकलन जांच सेंटर पर मौजूद चिकित्सा अधिकारी करेंगे, जबकि आरटी-पीसीआर टेस्ट के बारे में बताया गया कि इसके तहत सभी जिलों को आरटी-पीसीआर पोर्टल द्वारा कोविड पॉजिटिव की रिपोर्ट प्राप्त की जाती है। साथ ही जीएसडीएल टीम द्वारा पॉजिटिव पाए गए लोगों को चिन्ह्ति कर जिलेवार विवरण राज्य नोडल अधिकारी द्वारा इलेक्ट्रानिक रूप से साझा किया जाता है।

शानदार व्यवस्था है होम आइसोलेशन : सिसोदिया
दिल्ली में होम आइसोलेशन की पुरानी व्यवस्था बहाल हो गई है। अब सभी को क्वारंटीन सेंटर जाकर जांच नहीं करानी होगी। केंद्र सरकार से अनुरोध के बाद बृहस्पतिवार की डीडीएमए की बैठक में इसका फैसला लिया है। अब रैपिड टेस्ट के दौरान मरीजों की स्क्रीनिंग टेस्टिंग सेंटर पर होगी। हल्के व बिना लक्षण वाले मरीजों को घर पर इलाज की अनुमति होगी। हालांकि, मरीज के यहां अलग कमरा व शौचालय होना अनिवार्य है। सिसोदिया ने कहा कि होम आइसोशलेशन एक शानदार व्यवस्था है। दिल्ली में अभी तक 30 हजार लोग इससे ठीक हो चुके हैं। अच्छी व्यवस्था को आगे बढ़ाना चाहिए, इसे बंद करना ठीक नहीं है।

 

Right Click Disabled!