पूर्वी लद्दाख में स्थिति की समीक्षा

पूर्वी लद्दाख में स्थिति की समीक्षा
Spread the love

भारत और चीन के बीच चुशुल सेक्टर में मंगलवार को कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक हुई। दोनों पक्षों के बीच 14.5 घंटे तक बैठक हुई। इस बैठक में विवाद वाले सभी चार प्वाइंट्स को लेकर भारतीय सेना और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के बीच आगे की रणनीति बनी।

भारत सरकार के हाई-पावर चाइना स्टडी ग्रुप ने लद्दाख में सीमा विवाद को लेकर हुई बैठक की दो घंटे तक समीक्षा की। इस ग्रुप की बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और भारत-चीन सीमा वार्ता के विशेष प्रतिनिधि अजीत डोभाल, सरकार के वरिष्ठ अधिकारी और सुरक्षा एजेंसियों के प्रमुख शामिल थे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इस घटनाक्रम से परिचित लोगों ने बताया कि गलवां सेक्टर (पेट्रोलिंग प्वाइंट 14) में तनाव कम करने के प्रयासों को समेकित किया गया है। इसके अलावा, पैंगोंग त्सो के पेट्रोलिंग प्वाइंट 15 (गोगरा) और फिंगर्स 4 और 5 पर अभी भी सैनिकों की उपस्थिति बरकरार है, लेकिन यहां सैनिकों की संख्या बहुत कम है।

 

Right Click Disabled!