दूसरे प्रोत्साहन पैकेज से अर्थव्यवस्था में आ सकता है सुधार

दूसरे प्रोत्साहन पैकेज से अर्थव्यवस्था में आ सकता है सुधार

वित्तीय वर्ष के अंत में दूसरे राजकोषीय प्रोत्साहन पैकेज से भारतीय अर्थव्यवस्था में संकुचन की गति को रोकने में मदद मिल सकती है। कंसल्टेंसी फर्म ईवाई इंडिया की इकोनॉमी वॉच की रिपोर्ट के अनुसार विकास को बहाल करने और रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए उधार आधारित 111 लाख करोड़ रुपये की आवश्यकता होगी।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोविड -19 महामारी से निपटने के लिए नकद सहायता, मुफ्त खाद्यान्न और रसोई गैस के माध्यम से गरीबों को तुरंत राहत देने के लिए 26 मार्च को पहले प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की थी। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा प्रणाली में तरलता के लिए घोषित मौद्रिक उपायों का पालन किया गया। सीतारमण ने 13 मई से 17 मई तक पांच भागों में प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की, जो नीतिगत सुधारों के साथ उद्योग को ऋण गारंटी प्रदान करता है। सरकार ने कहा कि 26 मार्च के बाद से आरबीआई के मौद्रिक उपायों सहित कुल घोषणाओं का कुल मूल्य 20.97 लाख करोड़ रुपये था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक (एडीबी) जैसे वैश्विक संस्थानों द्वारा भारत के विकास अनुमानों को मार्च के अंत से मध्य मई के बीच अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने के कई उपायों के बावजूद नीचे संशोधित किया गया था। इससे यह पता चलता है कि संकुचन की गति को उलटने में पैकेज का केवल सीमित प्रभाव था। ये मुख्य रूप से कोविड -19 के प्रसार की जांच करने के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन से संबंधित है।

24 जून को आईएमएफ के वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक अपडेट ने भी 1.9 फीसदी के अपने पूर्व अनुमान को घटाकर -4.5 फीसदी कर दिया था। एडीबी ने 10 जून को अपने पहले के चार फीसदी के अनुमान को कम करके -4 फीसदी कर दिया था ईवाई इंडिया के मुख्य नीति सलाहकार डीके श्रीवास्तव ने कहा कि आरबीआई और वित्त मंत्रालय द्वारा मई के मध्य में घोषित प्रोत्साहन पैकेज के बाद अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा विकास पूर्वानुमानों में गिरावट का अनुमान किया गया। यानी प्रोत्साहन पैकेज को भारतीय अर्थव्यवस्था के संकुचन की गति को उलटने के लिए पर्याप्त नहीं माना जा सकता।

 

Spread the love
Right Click Disabled!