जरूरी नहीं कि संक्रमण के बाद शरीर में एंटीबॉडी बनें

जरूरी नहीं कि संक्रमण के बाद शरीर में एंटीबॉडी बनें
Spread the love

कोरोना की चपेट में आने वाले लोग अगर ये सोच रहे हैं कि उनके भीतर एंटीबॉडीज बन गईं हैं और वो पूरी तरह सुरक्षित हैं तो ऐसा नहीं है। संक्रमण की चपेट में आए हर व्यक्ति में एंटीबॉडीज बने ये जरूरी नहीं है। ब्रिटेन में ऐसे मामले सामने आ चुकेहैं।

ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग के वायरस एक्सपर्ट डॉ. साइमन क्लार्क का कहना है कि संक्रमण की चपेट में आने वाले कुछ लोगों की एंटीबॉडी जांच गई तो पता चला कि उनका शरीर वायरस के लिए इम्युन नहीं हुआ है क्योंकि संक्रमण के बाद उनमें एंटीबॉडीज नहीं बनी हैं। ऐसे में संक्रमण के बाद जिनमें एंटीबॉडीज नहीं बनी हैं उनमें दोबारा संक्रमण की संभावना हो सकती है। कई अध्ययनों से पता चला है कि दस में से एक कोरोना मरीज में पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडीज नहीं बनती हैं।

 

Right Click Disabled!