चीन से मुकाबले के लिए शोध-उत्पादन पर 250 अरब डॉलर खर्च करेगा अमेरिका

चीन से मुकाबले के लिए शोध-उत्पादन पर 250 अरब डॉलर खर्च करेगा अमेरिका
Spread the love

तकनीक में तेजी से कदम बढ़ा रहे चीन के खिलाफ प्रतिस्पर्धा क्षमता बढ़ाने के लिए अमेरिकियों सीनेट एक महत्वपूर्ण आर्थिक पैकेज वाले विधेयक को पारित कर दिया है। इसके तहत अमेरिका शोध और उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए 250 अरब डॉलर खर्च करेगा।

उच्च सदन सीनेट ने 32 के मुकाबले 68 मतों से अधिक पैकेज विरोधी मंजूरी, तकनीकी क्षमता विस्तार में मिलेगी मदद
इस चीन विरोध विधेयक को अमेरिकी संसद के उच्च सदन ने 32 के मुकाबले 68 मतों से पारित किया। प्रतिनिधि सभा पारित होने के बाद राष्ट्रपति जो बाइडन के दस्तखत होते ही पैकेज लागू हो जाएगा। प्रस्ताव के तहत तकनीकी अनुसंधान में सुधार लाने के लिए 190 अरब डॉलर और सेमीकंडक्टर व दूरसंचार उपकरण के शोध-उत्पादन के लिए 54 अरब डॉलर का प्रावधान किया गया है। इसमें दो अरब डॉलर विशेष तौर पर वाहन निर्माण में काम आने वाली चिप के लिए रखे गए हैं। कोरोना काल में चिप निर्माण में भारी कमी देखी गई है।

बिल के समर्थक सीनेटरों का कहना है कि यह अमेरिकी इतिहास में वैज्ञानिक अनुसंधान के क्षेत्र में अब तक के बड़े विधेयकों में से एक है। सीनेट में बहुमत दल के नेता चक शुमर ने कहा, मुझे पूरा भरोसा है कि इस कानून के बनने के बाद अमेरिका न सिर्फ अनुसंधानों बल्कि उत्पादन में भी काफी आगे जाएगा। चीन के खिलाफ दौड़ में बने रहने के लिए अनुसंधान में निवेश को जरूरी बताया। साथ ही कहा, अगर हमने आज कुछ नहीं किया तो महाशक्ति के रुप में अमेरिका का प्रभुत्व खत्म हो सकता है।

Right Click Disabled!