दिल्ली बनेगी ‘युवा’, 24 घंटे होगी कामकाज से लेकर मौज-मस्ती की सुविधा

दिल्ली बनेगी ‘युवा’, 24 घंटे होगी कामकाज से लेकर मौज-मस्ती की सुविधा
Spread the love

दिल्ली की युवा आबादी को बेहतर सुविधाएं देने के लिए अगले 20 साल का खाका मास्टर प्लान में तैयार किया गया है। डीडीए की कोशिश है कि तीस साल तक की तीस फीसदी आबादी की जरूरतों को पूरा किया जा सके। मास्टर प्लान-2041में 24 घंटे काम करने के लिहाज से दिल्ली को तैयार करने के साथ नाइट लाइफ, स्टार्टअप, मजबूत सार्वजनिक परिवहन, विरासत संरक्षण, पर्यावरण और कम होती जगह के बावजूद बेहतर तरीके से नियोजित करने सरीखे प्रावधान शामिल किए गए हैं। डीडीए अगले बीस साल में दिल्ली के नियोजित विकास के जरिए समग्र ढांचा तैयार करेगा।

मास्टर प्लान के ड्राफ्ट के मुताबिक, 2041 तक दिल्ली की आबादी 3.90 करोड़ होगी। जबकि 2011 में यह संख्या 1.67 करोड़ थी। इसका बड़ा हिस्सा युवाओं का होगा, जिसे रोजागर के लिए अवसर देने होंगे। फिलहाल दिल्ली की तकरीबन 30 फीसदी आबादी की आयु 30 वर्ष तक के युवाओं की है। लिहाजा मास्टर प्लान से इस बड़े तबके की जरूरतों को पूरा किया जाएगा। इसमें दिल्ली को 24 घंटों काम करने लायक बनाया जाएगा। इसके लिए नीतिगत बदलाव करने होंगे। जबकि मॉडल शॉप एंड इस्टैबलिशमेंट एक्ट से इस अवधारणा को मजबूत किया जाएगा। दूसरी ओर आईटी, ज्ञान आधारित अर्थव्यस्था, पर्यटन, उच्च शिक्षा, हॉस्टिपिटिलेटी, रियलिटी मार्केट सरीखे उद्यमों के विकास पर जोर होगा। इसके अलावा स्टार्टअप का प्रावधान भी मास्टर प्लान में किया जा रहा है।

डीडीए अधिकारियों का कहना है कि आर्थिक गतिविधियों का बेहतर ढांचा तैयार करने के साथ भविष्य के जरूरतों को भी मास्टर प्लान पूरा करेगा।दिल्ली को युवाओं की पसंद के अनुरूप भी ढाला जाएगा। इसमें शिक्षा, मनोरंजन, अर्थव्यवस्था, रोजगार, कैरियर, ट्रैफिक, पर्यावरण व रियायती दर पर आवास और हेरिटेज जैसे ज्वलंत मुद्दे से जुड़े प्रस्ताव रहेंगे। केंद्रीय आवास एवं शहरी मामला मंत्रालय के निर्देश पर डीडीए ने बुधवार को एक बैठक की और इससे जुड़े प्रस्ताव पर लोगों से 45 दिन के भीतर सुझाव भी मांगे हैं।

Right Click Disabled!