तहव्वुर के भारत प्रत्यर्पण के लिए अमेरिका ने  किया अनुरोध

तहव्वुर के भारत प्रत्यर्पण के लिए अमेरिका ने  किया अनुरोध
Spread the love

जो बाइडन प्रशासन ने लॉस एंजिलिस में एक संघीय अदालत से पाकिस्तानी मूल के कनाडाई कारोबारी तहव्वुर राणा को भारत प्रत्यर्पित करने का अनुरोध किया है। तहव्वुर राणा 2008 के मुंबई आतंकी हमले में संलिप्तता के लिए भारत में मोस्ट वांटेड अपराधी है और उसे भारत ने भगोड़ा घोषित कर रखा है।

बाइडन प्रशासन ने कहा, भारत ने आपराधिक आरोपों पर दिए हैं पर्याप्त सुबूत
लॉस एंजिलिस में सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट ऑफ कैलिफोर्निया में अमेरिकी सरकार ने दलील दी है कि भारत ने राणा के प्रत्यर्पण अनुरोध में प्रत्येक आपराधिक आरोपों को लेकर पर्याप्त सबूत दिए हैं। तहव्वुर राणा पर भारत में वह 2008 के मुंबई आतंकी हमले में संलिप्तता को लेकर  के लिए कई आपराधिक आरोप हैं।

उसे भारत के प्रत्यर्पण अनुरोध पर 10 जून 2020 को लॉस एंजिलिस में दोबारा गिरफ्तार किया गया। पिछले सप्ताह अमेरिकी वकील ने अदालत में पेश अपने मसौदा प्रस्ताव में कहा, यह पाया गया कि प्रत्यर्पण के प्रमाणीकरण के लिए सभी आवश्यकताओं को पूरा किया गया है।

अदालत विदेश मंत्री को तहव्वुर राणा के प्रत्यर्पण के लिए अधिकृत करती है और उसे हिरासत में भेजती है। वहीं राणा के वकील ने अपने प्रस्ताव में प्रत्यर्पण का विरोध किया है। दोनों ही दस्तावेज अदालत के समक्ष 15 जुलाई को पेश किए गए।

बता दें कि 2008 में मुंबई आंतकवादी हमले में कथित संलिप्पता का आरोपी तहव्वुर राणा अभी अमेरिका में ही हिरासत में रहेगा। पिछले महीने अमेरिका की एक संघीय अदालत ने तहव्वुर राणा के प्रत्यर्पण की सुनवाई के दौरान फैसला सुनाया था कि अभी राणा अमेरिका में ही रहेगा।

पाकिस्तानी मूल के कनाडाई व्यापारी तहव्वुर राणा के प्रत्यर्पण के मामले में अमेरिका की अदालत ने कुछ और कागज मांगे हैं औऱ कहा है है कि जब तक सभी कागज मिल नहीं जाते, तब तहव्वुर राणा अमेरिका में ही हिरासत में रहेगा। बता दें कि लंबे समय में भारतीय अधिकारियों की ओर से तहव्वुर राणा के प्रत्यर्पण की मांग चल रही थी।

 

Right Click Disabled!