आईएचएस मार्किट का दावा

आईएचएस मार्किट का दावा
Spread the love

कोविड-19 महामारी के दबाव में भी भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती से प्रदर्शन कर रही है और 2030 तक यह एशिया की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन जाएगा। आईएचएस मार्किट ने शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में दावा किया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था ब्रिटेन और जर्मनी को पीछे छोड़कर तीसरे पायदान पर पहुंच जाएगी।

आईएचएस मार्किट के अनुसार, अभी भारत की जीडीपी अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और ब्रिटेन के बाद छठे स्थान पर है। अगर मूल्य के लिहाज से बात करें तो 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार 27 खरब डॉलर रहा, जो 2030 तक बढ़कर 84 खरब डॉलर पहुंचने का अनुमान है। यह तेजी जापान को पीछे छोड़ने के लिए पर्याप्त है, जिससे भारत 2030 तक एशिया-प्रशांत क्षेत्र की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन जाएगा।

2021-22 में भारत की विकास दर 8.2 फीसदी रहने का अनुमान है, जबकि पिछले वित्तवर्ष में 7.3 फीसदी गिरावट रही थी। हालांकि, चालू वित्तवर्ष की रफ्तार 2022-23 में भी जारी रहेगी और भारत 6.7 फीसदी विकास दर हासिल कर लेगा।

भारत की विकास दर बढ़ाने में ई-कॉमर्स क्षेत्र के साथ विनिर्माण, बुनियादी ढांचा और सेवा क्षेत्र की बड़ी भूमिका है। इतना ही नहीं बढ़ते डिजिटलीकरण से आने वाले समय में ई-कॉमर्स बाजार और बड़ा हो जाएगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2030 तक 1.1 अरब भारतीयों के पास इंटरनेट होगा, 2020 में यह संख्या 50 करोड़ थी।

 

 

 

 

Advertisement
Right Click Disabled!