कई बार कहे जाने पर भी देश में सभी के लिए समान नागरिक संहिता लागू नहीं हुई : सुप्रीम कोर्ट

कई बार कहे जाने पर भी देश में सभी के लिए समान नागरिक संहिता लागू नहीं हुई : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: 

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिए गए एक फैसले में कहा कि देश के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए अभी तक कोई प्रयास नहीं किया गया है. जबकि सुप्रीम कोर्ट इस संबंध में कई बार कह चुका है.

न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध की पीठ ने अपने फैसले में कहा कि गोवा भारतीय राज्य का एक चमचमाता उदाहरण है जिसमें समान नागरिक संहिता लागू है, जिसमें सभी धर्मों की परवाह किए बिना यह लागू है, वो भी कुछ सीमित अधिकारों को छोड़कर. पीठ ने  एक संपत्ति विवाद मामले में ये टिप्पणियां की.

उन्होंने कहा कि गोवा राज्य में लागू पुर्तगाली नागरिक संहिता, 1867 है, जो उत्तराधिकार और विरासत के अधिकारों को भी संचालित करती है. जबकि भारत में कहीं भी गोवा के बाहर इस तरह का कानून लागू नहीं है.

Spread the love
Right Click Disabled!