7 साल में बॉर्डर पर 6942 बार फायरिंग, 90 सुरक्षाकर्मी शहीद: गृह मंत्रालय

7 साल में बॉर्डर पर 6942 बार फायरिंग, 90 सुरक्षाकर्मी शहीद: गृह मंत्रालय

नई दिल्ली
बॉर्डर पर पिछले सात सालों में गोलीबारी और सीजफायर उल्लंघन की कितनी घटनाएं हुईं इसके संबध में अहम जानकारी सामने आई है। इसे गृह मंत्रालय ने साझा किया है। बताया गया है कि इन सालों में क्रॉस बॉर्डर फायरिंग और सीजफायर उल्लंघन के 6942 मामले सामने आए। इन घटनाओं में 90 सुरक्षाकर्मी शहीद और 454 घायल हुए। यह जानकारी भारत सरकार द्वारा ऐक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को दी गई है। उन्होंने यह सूचना मांगी थी। दी गई सूचना के अनुसार वर्ष 2013 से अगस्त 2019 के बीच जम्मू कश्मीर के लाइन ऑफ कंट्रोल और इंटरनैशनल बॉर्डर पर 6942 क्रॉस बॉर्डर गोलीबारी और सीजफायर उल्लंघन की घटनाएं हुई हैं। नूतन ने 2013 से अब तक पाकिस्तान द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर किए गए हमलों और गोलीबारी की जानकारी मांगी थी। घटनाओं में शहीद और घायल हुए सुरक्षाकर्मियों की जानकारी भी मांगी गई थी।
गृह मंत्रालय की जन सूचना अधिकारी सुलेखा द्वारा दी गई जानकारी में यह भी बताया गया कि इस अवधि में सेना तथा सीमा सुरक्षा बल के 90 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए जबकि 454 घायल हुए। सबसे अधिक (2140) घटनाएं साल 2018 में हुईं, जबकि अगस्त 2019 तक 2047 और वर्ष 2017 में 971 हमले हुए। वर्ष 2013 में 347 और वर्ष 2014 में 583 हमले हुए थे। सुरक्षाकर्मियों के लिए सबसे बुरा साल 2018 रहा। इसमें 29 शहीद तथा 116 घायल हुए। साल 2016 में 112 सुरक्षाकर्मी एवं वर्ष 2017 तथा 2019 में अब तक 91 सुरक्षाकर्मी हताहत हुए। वर्ष 2013 में 38 तथा 2014 में 33 सुरक्षाकर्मी हताहत हुए थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Right Click Disabled!