महिला इंजिनियर की मौत मामले में हवा पर मामला दर्ज करना चाहिए : AIADMK

महिला इंजिनियर की मौत मामले में हवा पर मामला दर्ज करना चाहिए : AIADMK

चेन्नई

एआईएडीएमके के वरिष्ठ नेता सी पोन्नया ने कहा कि 23 साल की महिला इंजिनियर की मौत मामले में हवा पर मामला दर्ज करना चाहिए। चेन्नई में सितंबर महीने में इंजीनियर आर शुभाश्री के ऊपर बैनर गिर गया था जिससे उनका संतुलन बिगड़ गया और पीछे आ रहे टैंकर ने उन्हें रौंद दिया। इस हादसे में उनकी मौत हो गई थी। एआईएडीएमके के एक नेता ने दक्षिण चेन्नई में अपने परिवार के सदस्य की शादी के लिए इस बैनर को लगाया था जो शुभाश्री के ऊपर गिर गया। इस मामले में पुलिस ने एआईएडीएमके के पूर्व पार्षद जयगोपाल को शुभाश्री की जान खतरे में डालने और लापरवाही से हुई मौत को लेकर गिरफ्तार किया है।

पूर्व मंत्री पोन्नया ने एक तमिल चैनल से बातचीत में कहा, ‘जयगोपाल ने बैनर को अपने परिवार के सदस्य की शादी के कार्यक्रम के लिए लगाया था, उसने शुभाश्री पर इसे नहीं गिराया। इसलिए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करना गलत होगा। हवा के रुख के कारण बैनर नीचे गिरा। यदि किसी पर केस दर्ज होना चाहिए तो वह हवा है। पोन्नया के बयान ने विपक्ष को सरकार और सोशल मीडिया पर निशाना साधने का मौका दे दिया है। डीएमके के प्रवक्ता सर्वानन अन्नदुराई ने कहा कि यह बयान एआईएडीएमके नेताओं की असंवेदनशीलता दिखाता है।

प्रवक्ता ने कहा, एआईएडीएमके के नेता शुभाश्री की मौत का मजाक बना रहे हैं। अभी तक एआईएडीएमके के लोगों ने सुभाश्री के परिवार को सांत्वना नहीं दी है। हमें लगता है कि यही वजह थी कि दिवंगत अन्नाद्रमुक महासचिव जे जयललिता ने अपनी पार्टी के लोगों को मीडिया से बात करने की अनुमति नहीं दी। विरोध होने पर पोन्नया ने कहा कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया है। उन्होंने कहा, मैं यह कहना चाहता था कि बैनर किसी को मारने के लिए नहीं लगाया गया था। बैनर लगाने के पीछे का मकसद समारोह का प्रचार करना था। तो कैसे जयगोपाल के खिलाफ मामला दर्ज हो सकता है जबकि उनका इरादा किसी महिला की जान लेना नहीं था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Right Click Disabled!