पूर्णकालिक सीएसी की कोई जरुरत नहीं : गांगुली

पूर्णकालिक सीएसी की कोई जरुरत नहीं : गांगुली

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का कहना है कि पूर्णकालिक क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) की कोई जरुरत नहीं क्योंकि इसकी भूमिका सिर्फ 1 या 2 मीटिंग्स तक सीमित है। गांगुली ने बोर्ड के एजीएम के बाद संवाददाताओं से कहा, सीएसी के पास अधिक काम नहीं है। हम सीएसी के बारे में बात करते रहते हैं लेकिन सीएसी का काम कोच और चयनकर्ता नियुक्त करना है। एक बार जब चयन समिति 4 साल के लिए कोच 3 साल के लिए नियुक्त हो जाता है तो फिर पूर्णकालिक सीएसी की क्या जरुरत है।
बीसीसीआई ने अब तक सीएसी की नियुक्ति नहीं की है और गांगुली का कहना है कि हितों के टकराव से जुड़े मामले इसकी राह में रोड़ा बन रहे हैं। गांगुली ने कहा, अब तक तो सीएसी मानद है। अगर आप इसके सदस्यों को वेतन देंगे तो फिर किस आधार पर देंगे। यहां नियमित काम नहीं है। सीएसी का हितों के टकराव के बीच नियुक्ति मेरी नजर में सही कदम नहीं होगा। यह सिर्फ बैठकों तक सीमित है। गांगुली ने एक और अहम बात कही। गांगुली ने कहा कि वह क्रिकेटरों के लिए बीसीसीआई के पेंशन स्कीम को नए सिरे से तैयार करना चाहते हैं। गांगुली ने कहा कि कई खिलाड़ियों के पास नौकरी है और वे तब भी पेंशन ले रहे हैं। ऐसे में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि पेंशन उन्हीं को मिले, जिनको इसकी सबसे अधिक जरुरत है। गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को हितों के टकराव के कारण सीएसी से इस्तीफा देना पड़ा था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Right Click Disabled!