एच-1 बी : नौकरियों के लिए प्रशिक्षण पर करोड़ों खर्च

एच-1 बी : नौकरियों के लिए प्रशिक्षण पर करोड़ों खर्च
Spread the love

अमेरिका ने महत्वपूर्ण क्षेत्रों में मध्यम से उच्च दक्षता वाले एच-1 बी पदों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू करने की घोषणा करते हुए कहा है कि वह इस कार्यक्रम’ पर 15 करोड़ डॉलर (1,100 करोड़ रुपये) खर्च करेगा। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र भी शामिल हैं, जिसमें हजारों की संख्या में भारतीय पेशेवर काम करते हैं।

बता दें कि एच-1 बी गैर-आव्रजक वीजा है, जिसके तहत अमेरिकी कंपनियां विशेष तकनीकी दक्षता वाले पदों पर विदेशी पेशेवरों को नियुक्त करने की अनुमति हासिल करती है। भारतीयों के बीच यह वीजा काफी लोकप्रिय है।अमेरिका के श्रम मंत्रालय ने कहा कि मुख्य रूप से सूचना प्रौद्योगिकी या आईटी, साइबर सुरक्षा, आधुनिक विनिर्माण, परिवहन जैसे क्षेत्रों में ‘एच-1 बी एक श्रमबल अनुदान कार्यक्रम’ का इस्तेमाल किया जाएगा और मौजूदा के साथ नई पीढ़ी के कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि भविष्य के लिए श्रमबल तैयार किया जा सके।

 

Right Click Disabled!