स्वतंत्रता दिवस तक लाल किला बंद

स्वतंत्रता दिवस तक लाल किला बंद
Spread the love

आज से 15 अगस्त तक सैलानियों को नहीं मिलेगा प्रवेश
स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों को ध्यान में रखते हुए लाल किला आम नागरिकों के लिए बंद कर दिया गया। 21 जुलाई से 15 अगस्त तक लाल किले में घूमने के लिए जाने वालों को प्रवेश नहीं मिलेगा। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की ओर से मंगलवार देर शाम को लाल किला बंद करने की सूचना दी गई। एएसआई के निदेशक (स्मारक) एन. के पाठक ने एक आदेश पत्र जारी करते हुए अपने दिल्ली सर्कल के तमाम अधिकारियों, उत्तरी जिले की पुलिस और लाल किले में सुरक्षा व्यवस्था संभाल रहे सीआईएसएफ कमांडेंट को इस बात की जानकारी दी है। सुरक्षा कारणों के चलते दिल्ली पुलिस ने एएसआई को 15 जुलाई से ही लाल किले को बंद करने के लिए कहा था। फिलहाल एएसआई ने 15 की बजाय 21 जुलाई से लाल किला बंद करने का निर्णय लिया है।  दिल्ली पुलिस ने लाल किला और उसके आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था पहले से अधिक बढ़ा दी है। नागरिकों को जानना जरूरी है कि अब वह 16 अगस्त के बाद ही लाल किला घूमने जा पाएंगे।

आईबी अलर्ट: 15 अगस्त से पहले दिल्ली में हो सकता है ड्रोन हमला
वहीं, आगामी स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर भारत के खुफिया विभाग ने दिल्ली पुलिस को अलर्ट जारी किया है कि 15 अगस्त से पहले राजधानी में कभी भी ड्रोन से हमला हो सकता है। जम्मू और उत्तर प्रदेश में आतंकी वारदात अंजाम देने में नाकाम रहे दहशतगर्द अब देश की राजधानी को दहलाने की बड़ी योजना बना रहे हैं।

अमर उजाला ने खुफिया विभाग से मिले ऐसे ही इनपुट की खबर 14 जुलाई को भी प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इसके अनुसार, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई दिल्ली सहित देश के मेट्रो शहरों समेत कई शहरों पर हमला करा सकती है। आतंकियों को मानव बम बनाकर या फिर टारगेट किलिंग के जरिए वारदातों को अंजाम दिया जा सकता है। देश के खुफिया विभाग व दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को इस तरह के इनपुट्स मिले हैं। इस तरह के इनपुट्स के बाद दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। दिल्ली में कई जगहों पर अर्धसैनिक बलों को तैनात कर दिया गया है।

दिल्ली पुलिस की आतंकी निरोधी सेल स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लाहौर के जौहर हाउस में राजस्व बोर्ड हाउसिंग सोसाइटी में देश के सबसे बड़े दुश्मन हाफिज सईद के आवास के बाहर 23 जून को बम धमाका हुआ था। इस धमाके से भारत का कोई लेना-देना नहीं है। मगर आईएसआई व हाफिज सईद इस धमाके का बहाना बनाकर आतंकी हमला करवा सकते हैं। आईएसआई आतंकियों को मानव बम या फिर टॉरगेट किलिंग करवा सकती है। इनपुट्स में कहा गया है कि देश की महत्वपूर्ण इमारत व भीड़भाड़ वालों जगहों को निशाना बताया जा सकता है। भीड़भाड़ जगहों पर छोटे-छोटे बम धमाके करवाए जा सकते हैं।

Right Click Disabled!